आत्म तत्व क्या है


 

                      मनुष्य तन अत्यंत दुर्लभ
है और पूर्व जन्मों के पुण्यों के फलस्वरूप
यह प्राप्त होता है। हम प्राय: अपने इस शरीर
को ही सब कुछ समझ लेते हैं। इसीलिए संसार में
रहकर हम शरीर-सुख के लिए प्रतिपल प्रयासरत रहते
हैं, जबकि प्राणी का शरीर नाशवान है, क्षणभंगुर और
मूल्यहीन है। शारीरिक सुख क्षणिक हैं, अनित्य हैं। इसलिए
ज्ञानी जन शरीर के प्रति ध्यान न देकर, अंतरात्मा के प्रति
सचेत रहने की बात करते हैं। अंतरात्मा के प्रति ध्यान देने से
प्राणी का जीवन सार्थक होता है। शरीर नाशवान है और आत्मा
अजर-अमर। गीता में श्रीकृष्ण कहते हैं कि मृत्यु के पश्चात
हमारा शरीर केवल वस्त्र बदलता है।

                      आत्मा तो अपने अस्तित्व
के साथ सर्वदा वर्तमान है, क्योंकि उसका
अवसान नहीं होता। इतना सब कुछ जानने के
बाद भी हम शरीर को पहचानते हैं, उसका गर्व करते
हैं और आत्मा के महत्व को हम गौण मानते हैं। यह हमारी
अज्ञानता ही तो है। शरीर से हम कर्म भले ही करते हों, किंतु
प्रेरक शक्ति आत्मा ही है। जिस प्रकार दीपक का महत्व ज्योति
से है, उसी प्रकार शरीर का महत्व आत्मा से है, किंतु हम शरीर
को ही सत्य मानकर उसका मोह करते रहते हैं। यह हमारी भयंकर
भूल है। यह अज्ञान है। यह तो सभी जानते हैं कि मोह का चिरंतन
मूल्य नहीं होता। एक न एक दिन व्यक्ति के मन से मोह दूर हो जाता
है। उसे शरीर का रूप, गर्व, अहंकार आदि सभी महत्वहीन लगते हैं।
महलों में रहने वाले संपन्न लोगों और जंगलों में तपलीन संन्यासियों-
ऋषियों में शरीर के प्रति अलग-अलग अवधारणाएं होती हैं। संपन्न
व्यक्ति अपने शरीर को सत्य मानकर सदैव भौतिक सुखों के पीछे
भागते रहते हैं। वहीं संन्यासी शरीर को नाशवान और गौण मानकर
आत्मा की आराधना में लीन रहकर भजन में व्यस्त रहते हैं। ऋषि
को शरीर के चोला बदलने का सत्य ज्ञात हो चुका है। इसीलिए वह
मस्त है और संपन्न व्यक्ति सदैव चिंताओं से ग्रस्त और भौतिक
सुविधाओं के लिए व्यस्त रहता है। दोनों में यही मौलिक अंतर है।
आत्मा के सत्य को समझ लेने के बाद शरीर का महत्व कम हो
जाता है। शरीर और आत्मा के बीच संतुलन बनाकर रहने वाला
व्यक्ति मोहग्रस्त नहीं होता। ज्ञान का उदय होते ही अज्ञान स्वत:
समाप्त हो जाता है। शरीर केवल माध्यम है और आत्मा उसका
संचालन करती है।

 

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s