ग्लूकोमा क्या है उसे काबू में रखना हो तो क्या करें


 

          ग्लूकोमा या काला
मोतिया कई कारणों से हो
सकता है। जिन लोगों का
पारिवारिक इतिहास इस बीमारी
से संबंधित हो यानी परिवार के किसी
सदस्य को अतीत में यह बीमारी हो चुकी
हो, उन्हें इस रोग से ग्रस्त होने का जोखिम
बढ़ जाता है। पूर्व में आंख में कभी चोट लगना,
लंबे समय तक स्टेरायड्स दवाओं का सेवन
करने वाले व्यक्ति इस समस्या से ग्रस्त हो
सकते हैं। मधुमेह, हाइपरटेंशन, या थायरायड
आदि समस्याओं से पीड़ित व्यक्तियों को इससे
ग्रस्त होने का खतरा बढ़ जाता है। ग्लूकोमा के
लक्षण शुरुआती दौर में नहीं उभरते। इसलिए
इसे गंभीर रोग माना जाता है। इस रोग से
बचने का कोई निश्चित उपाय नहींहै।
शुरुआत में ही बीमारी का पता लगाने
के लिए आंखों की नियमित रूप से जांच
कराएं। आंखों में होने वाले किसी भी बदलाव
या लक्षण पर ध्यान दें। याद रखें, ग्लूकोमा किसी
भी आयुवर्ग के व्यक्ति को हो सकता है।

          अगर ग्लूकोमा के
उपचार की बात की जाए,
तो यह जान लेना जरूरी है कि
इस रोग को पूरी तरह ठीक नहीं
किया जा सकता, लेकिन इस रोग
की जटिलता के मद्देनजर इसे दवाओं,
सर्जरी या लेजर तकनीक द्वारा नियंत्रित
जरूर किया जा सकता है ताकि ऑप्टिक
नर्व की आगे होने वाली क्षति को रोका जा
सके। वैसे इस रोग का इलाज ताउम्र चलता है।
हर बार बरसात के मौसम में मुझे कन्जंक्टिवा-
इटिस की समस्या हो जाती है। इस कारण मुझे
काफी परेशानी का सामना करना पडता है कृपया
इस बीमारी से बचने का उपाय बताएं।
अजय देवर्षि, आगरा

            आंखों के फ्लू कन्जंक्टिवाइटिस
को लोग सामान्य बीमारी समझते हैं। मई से
सितंबर के दौरान आपकी आंखों पर इस रोग
का हमला हो सकता है। ऐसे में इसे साधारण रोग
मानकर हम लापरवाही करते हैं जो कार्निया को
क्षतिग्रस्त करने का कारण बन सकती है।
सावधानी न बरतने पर आंखों की रोशनी
भी जा सकती है। कन्जंक्टिवाइटिस से
बचने के लिये साफ पानी से नियमित
रूप से आंख धोएं। कॉन्टेक्ट लेंस
पहनते हों, तो उनका प्रयोग तुरंत
बंद कर दें, क्योंकि ऐसा न करने पर
संक्रमण का जोखिम बढ़ जाता है। अगर
संक्रमण हो चुका है, तो स्वच्छ व अलग टॉवेल
व रूमाल का इस्तेमाल करें। आंखों को छूने के
बाद हाथों को अच्छी तरह से धोएं। इस बीमारी
का खुद इलाज करने के बजाय डॉक्टर से
परामर्श लेकर इलाज शुरू कराएं।

          इस बार विश्व ग्लूकोमा
सप्ताह की मुख्य थीम- ‘अदृश्य
ग्लूकोमा को पराजित करना’- है।
इस रोग को अदृश्य इसलिए कहा जाता
है, क्योंकि इसके लक्षण अधिकतर मामलों
में प्रकट नहीं होते और बीमारी तब तक अपना
बुरा असर छोड़ चुकी होती है। ग्लूकोमा (काला
मोतिया) ऐसी बीमारी है,जिसकी समय पर
पहचान न होने पर और सही समय पर
समुचित इलाज नहीं होने पर व्यक्ति
अंधेपन से ग्रस्त हो सकता है, लेकिन
कुछ सजगताएं बरतकर ग्लूकोमा को
काबू में लाया जा सकता है..
तियाबिंद के बाद अंधेपन
का दूसरा सबसे बड़ा कारण
ग्लूकोमा है। ग्लूकोमा से होने
वाला अंधापन लाइलाज है और यह
रोग दुनिया भर में लाइलाज अंधेपन का
एक प्रमुख कारण है।

 

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s