प्रभु से एकता ही स्वर्ग है-1


      स्वर्ग और पृथ्वी सब हमारे अंदर है,
पर अपने  अंदर के स्वर्ग से सभी परिचित
नहीं हैं ।   सम्पूर्ण स्वर्ग आपके भीतर है। सारे
सुखों का श्रोत आपके भीतर है, ऎसी दशा में अन्यत्र
आनंद को ढूंडना कितना अनुचित और असंगत है।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s