हमारे जीवन के मूल्य-21


1 – प्रेम भाव-

      प्रेम भाव प्राय क्रियाओं द्वारा व्यक्त
किया जाता है वॉणी के द्वारा नहीं,वॉणी के
द्वारा किया गया प्रेम अपनी गरिमा से च्युत
हो जाता है।

2 – अच्छा आदमी बनो —

   दिल एक पवित्र मंदिर होता है, एक बार
ङसमें जिस देवता  की  मूर्ति  स्थापित  कर ली
जाती है, पुजारी हर स्थिति में उसकी पूजा करता है।

3 – मित्र-

     मित्र धनी हो या गरीब,सुखी हो या
दुखी ,  निर्दोष  हो  सदोष, वह हमारे लिए
सबसे बडा सहायक होता है।

4 – दुष्ट व्यक्ति-

      दुष्ट व्यक्ति उन ओलों के समान
होता  है,  जो   फसल  को  नष्ट   करके
स्वयं भी नष्ट हे जाता है।

5 – विचार-

निशेधात्मक निचार व्यक्ति की
शक्ति को क्षीण करते हैं,सकारात्मक
निचार शक्ति को बढाते हैं।

6-जीवन-

     साधारण लोग सोचते है
कि जीवन जन्म और मृत्यु
के बीच जो है उसी का नाम
जीवन है,,बल्कि जीवन उसका
नाम है जिसके मध्य में जन्म और
मृत्यु बार-बार घटते हैं, और बहुत बार
घटते हैं, और घटते रहेंगे तबतक घटते
रहेंगे जबतक तुम जीवन को पहचान न
लो,जिसदिन तुमने जीवन को पहचान
लिया उस दिन तुम्हारे भीतर दीप
जलेगा ,अपने से मुलाकात हुई,
फिर न लौटना होगा,न कहीं
आना या जाना…

7-सत्य बोलो-

     घर के बाहर झूठ बोलते हो तो
चल सकता है किसी तरह ,लेकिन
घर में झूठ बोलते हो तो नहीं चलेगा,
ध्यान रखें अपने घर में परिवार के किसी
भी सदस्य से झूठ न बोलें ।

8 – भारत माता –

        विश्व में एक ही देश है जिसे माता का
दर्जा प्राप्त है, भारत माता,यह भारत भूमि
हमारी मॉ है तो भारत में जन्म लेने वाले
हम सब भाई -बहिन हो गये सब एक
परिवार की तरह रहें और अपनी मॉ
का सम्मान कर उसका नाम ऊंचा
रखें ।

9 -भगवान का प्यारा होना-

    जब कोई व्यक्ति मरता है तो कहते
हैं कि भगवान  का  प्यारा  हो   गया, बात
तब है जब जीते जी  भगवान  का  प्यारा हो
जाय ।

10 -दुख के समय काम आने वाले को न भूलें –

      दुख में किसी ने पानी भी पिला दिया उसे मत भूलना।
रेगिस्तान में दो दोस्तों में एक ने दूसरे पर थप्पड मार दिया,
दूरे  दोस्त  ने  कुछ  नहीं  किया,  बस  रेत  पर  लिख  दिया   कि
मेरे दोस्त ने मुझे थप्पड मारा। आगे चलकर वह जिसने थप्पड मारा था
स्वयं तालाब में डूब गया, दूसरे दोस्त ने बचाया, उसने चट्टान पर लिख
दिया कि मेरे दोस्त ने मुझे बचाया। थप्पड खाने वाले …

11-आनन्द की अनुभूति-

     परमानन्द आध्यात्मिक चेतना की जागृति से सम्भव है,
भौतिक सुख से  स्थाई  आनन्द  की  अनुभूति  नहीं  होती, सिर्फ
आध्यात्मिक आनन्द स्थाई होता है जिसे बनाये रखने का  प्रयास
करें ।अगर यह आनन्द चाहिए तो उन सन्तों से प्राप्त करें जिन्होंने
कठिन तपस्या की है और उन्हैं लम्बे प्रयासों का अनुभव है ।

12-बात –

जो बात सिद्धान्त से गलत है,

वह ब्यवहार में कभी उचित नहीं हो सकती ।

13-आदर्श-

प्रेम सबसे करो, विश्वास कुछ पर करो,
बुरा किसी का मत करो ।

14 -मॉ का सम्मान करें

     जिस घर में मॉ तथा बहू-बेटियों का सम्मान
नहीं होता है वहॉ नारायण की  कृपा  नहीं होती,वहॉ
लक्ष्मी आ ही नहीं सकती , मॉ पृथ्वी पर प्रथम पूज्यनीय
होती है, बिना माता-पिता के आशीश से मानव आगे बढ
ही नहीं सकता है ।

15-अच्छा कार्य करो –

       रात के अन्धेरे में कोई ऐसा कार्य न
करो कि दिन के उजाले में चेहरा छिपाना पडे ।

16 -बीडी-सिगरेट तथा नशीले पदार्थों का प्रयोग न करें –

    हमारे महॉपुरुष कहते हैं कि बीडी सिगरेट
पीने  वाले  अपने  पुण्य  तो  खत्म  कर  देते  हैं
लेकिन उनकी 21 पीढियों का पुण्य भी धुंआ
बनकर उड जाता है ।

17 – जीवन-

      जीवन एक गंगा है, कभी ङधर मुडती है,कभी
उधर मुडती है, लेकिन फिर भी पवित्र है ।

18-मीठा बोलिए –

       आदमी खाना मीठा पसन्द करता है मगर
बोलता कडुवा है ,बूढे स्वयं तो अधिक बोलते हैं
दूसरे को भी अधिक बुलवाते हैं ।जरूरत से ज्यादा
मत बोलो,चाय में मीठा डालना भूल जाओ कोई बात
नहीं मगर वॉणी में माधुर्य होना मत भूलना । मन कुछ
बोलता है जीभ कुछ और बोलती है । मन क्या बोलता है
यह महत्वपूर्ऩ है,शब्द जीवन में महत्वपूर्णहोते हैं शब्दों से
जीवन में अद्भुत परिवर्…

19 -महॉप्रसाद –

       धन की शुद्धि दान से, तन की शुद्धि स्नान से,
मन की शुद्धि ध्यान से होती है लेकिन दान महॉप्रसाद
बन जाता है ।

20 -चुनौती-

      चुनौती को स्वीकार कर आगे बढना सीखो
वही सफल होता है।

21-विद्या –

               विद्या वह है जो विनम्रता लाती है,

विद्या ग्रहण करने पर विनम्रता का गुंण पहला लक्षण है।

22-यादों के दीपक-

      अपनी यादों के दीपक हमारे साथ रहने दो, न जाने जिन्दगी की किस
गली में शाम हो जाय।।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s