विश्वास की बातें


 

विश्वास की बातें-

1-विश्वास हमें तारता है जबकि अहंकार डुबोता है ।
2-जबतक अज्ञानता है तबतक जीव भ्रमित रहता है ।
3-अगर ईश्वर को देखना चाहते हो तो माया को हटा दो ।
4-अगर कोई दृढ रहे तो पतन का गम नहीं,उठकर वह
फिर आगे चल देगा ।
5-यदि हम गिरते हैं तो अधिक अच्छी तरह चलने का
रहस्य सीख जाते हैं।
6-माया को जान लेने पर वह दूर हो जाती है ।
7-मन एक उजला वस्त्र है,इसे जिस रंग में डुबो जाओ
उसी रंग का हो जायेगा ।
8-जीवन में जो जितना सह सकता है ,वह उतना ही
महात्मा है ।
9- भक्त का ह्दय भगवान की बैठक है ।

2-मौन का महत्व

                  मौन सभी रोगों
की औषधि है।मौन बुद्धिमानों
के लिए हितकारी है,तो फिर मूर्खों
के लिए कितना अधिक हितकारी होगा।
मैं अपने जीवन में बुद्धिमानों के बीच पला-
बढा हूं और मैं मौन की तुलना में कोई भी
वेहत्तर सेवा नहीं जानता ।।

3-अन्तर्ज्योति

                         यदि तुम ईश्वर
से मिलना चाहते हो तो,अपने
को ईश्वर में विलीन कर दो क्योंकि
अहंकार ही तुम्है ईश्वर से दूर रखे हुये
है।तुम पूछते हो कि,मैं निरानन्द शून्यता
को कैसे पार करूं?अपने अहंकार से परे जाकर
एक कदम चलना ही सब कुछ है ।।

4-प्रकाश-

                    जब प्रकाश
ईश्वर की ओर से प्रवाहित
होता है,तो सभी आंखें देख
सकती हैं,अपने पूर्ण चकाचौध
किरणों वाले भव्य मौन-सूर्य को
मुझे दे दो ।।

5-हमारा मन एक तराजू है-

                      हमारा मन एक
तराजू के समान है,तराजू का
पलडा जिस ओर भारी होता है
उधर झुक जाता है और जिधर हल्का
होता है उधर ,उधर ऊपर उठ जाता है।
एक ओर संसार है और दूसरी ओर भगवान
है ।जब मन में संसार,मान एत्यादि का भार
अधिक होता है तो, मन भगवान की ओर से
हटकर संसार की ओर झुक जाता है ।और जब
मन में वैराग्य,विवेक तथा भगवत्-शक्ति का भार
अधिक होता है,तो मन संसार की ओर से हटकर
भगवान की ओर झुक जाता है ।।

 

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s