बचाव का ध्यान रखें तो बीमारी के इलाज कीआवश्यकता ही नहीं होगी


 

            कहते हैं कि बीमारी
से बेहतर है बचाव। दिल को
स्वस्थ रखने के संदर्भ में कुछ सु
झावों पर अमल करें..

1-    नियमित रूप से अपने
शरीर की क्षमता के अनुसार
व्यायाम करें। व्यायाम भी दिल को
सेहतमंद रखने में कारगर हैं।

2-            डॉक्टर से परामर्श
लेकर आप कार्डियोवैस्कुलर
व्यायाम भी कर सकते हैं।

3-        टहलना भी अच्छा
व्यायाम है। शरीर की क्षमता
के मद्देनजर नियमित रूप से टहलें।

4-            जो लोग पहले से
ही डाइबिटीज, हाई ब्लडप्रेशर
से ग्रस्त हैं, उनमें हृदय संबंधी सम-
स्याएं होने का खतरा कहीं ज्यादा होता
है। इसलिए डाइबिटीज से ग्रस्त लोगों को
नियमित रूप से अपने ब्लड शुगर की जांच
करनी चाहिए। इसी तरह हृदय रोगों से ग्रस्त लोगों
को भी ब्लडप्रेशर चेक करते या कराते रहना चाहिए।

5-             अगर ब्लडशुगर
और ब्लड प्रेशर अनियंत्रित
है, तो शीघ्र ही अपने डॉक्टर से
परामर्श लें।

6-         डॉक्टर से परामर्श
लेकर एक अंतराल पर रक्त
में कोलेस्ट्रॉल लेवल की जांच कराते
रहें।

7-तंबाकू का सेवन न करें।

8-     अत्यधिक नमकीन
खाद्य पदार्र्थो को खाने से
परहेज करें। नमक कम मात्रा में लें।

A–तेल का महत्व

9-      लोगों को खाने के
तेल पर भी विशेष ध्यान
देना चाहिए। अगर सही प्रकार
और सही मात्रा में तेल का इस्तेमाल
किया जाए, तो दिल संबंधी बीमारियों को
रोकने में मदद मिलती है। इस संदर्भ में राइस
ब्रैन तेल अत्यंत लाभप्रद है। इस तेल को चावल
के भूसे में से निकाला जाता है। इसके अलावा
सरसों का तेल, जैतून और सोयाबीन का तेल
भी दिल की सेहत के लिए लाभप्रद है।